logo

Desi Gharelu Upay

kaal sarp dosh nivaran ke achuk upay

Plz Share

कालसर्प दोष निवारण के अचूक उपाय

Kaal Sarp Dosh Nivaran ke Achuk Upay

कालसर्प दोष का नाम सुनते ही कुछ लोगों के मन एक डर सा बैठ जाता है, क्यूंकि कालसर्प दोष के कारण जातक को कई प्रकार की परेशानियां झेलनी पड़ सकती है। कालसर्प दोष के कारण सूर्यादि सप्तग्रह अपना शुभफल नहीं दे पाते हैं। जिसकी वजह से जातक को मेहनत करने के बाबजूद भी उसका फल नहीं मिल पाता है। जातक कई सारी चिंताओं से घिरा रहता है। अगर किसी जातक की कुंडली में कालसर्प दोष है तो घबराने की जरूरत नहीं, क्यूंकि कुछ आसान और अचूक उपायों को करने से इसके असर को कम किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : मांगलिक दोष के उपाय हिंदी में

कई बार ऐसा भी देखा गया है कि जातक की कुंडली में कालसर्प दोष होने के बाद भी उसे वह हर सुख प्राप्त होता  है जिसकी वह इच्छा रखता है इसलिए अगर आपकी कुंडली में भी कालसर्प दोष है तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है यहां पर हम आपको कुछ आसान उपाय बता रहे हैं जिन्हे करने से कालसर्प दोष का प्रभाव कम हो जाता है ।


कालसर्प दोष कब बनता है ?

जब कुंडली में राहु और केतु के बीच सारे ग्रह आ जाएं तो उसे कालसर्प दोष कहा जाता है। कुछ लोग इसे कालसर्प योग भी कहते हैं ।


कालसर्प दोष निवारण के अचूक उपाय


Kaal sarp dosh ke upay कालसर्प दोष को दूर करने के लिए व्यक्ति को भगवान शिव की शरण में जाना चाहिए। क्योकि भगवान शिव ही नाग यानि सर्पों के अधिष्ठाता देव है। उनकी उपासना करने वाले व्यक्ति को कभी भी कालसर्प दोष के नकारात्मक परिणामों को नहीं झेलना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें : वास्तु दोष निवारण के उपाय

Kaal sarp dosh ke upay सोमवार के दिन भगवान शिवजी की शिवलिंग गंगाजल मिले जल से महामृत्युंजय मंत्र का 108 बार लगातार 7 दिनों तक अभिषेक करने के बाद चंदन युक्त धूप, तेल, सुगंध अथवा इत्र अर्पित करने से कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है ।

Kaal sarp dosh ke upay कालसर्प दोष को दूर करने के लिए सावन माह का समय सबसे उत्तम माना गया है सावन माह में नागपंचमी के दिन भगवान शिव का रुद्राभिषेक करने से, व्रत करने से और नाग देव की उपासना करने से कालसर्प दोष से शीघ्र मुक्ति मिलती है ।

Kaal sarp dosh ke upay कालसर्प दोष से निवारण के लिए आप मोर पंख के पंखा को पवित्र स्थान पर रखें और भगवान शिव का ध्यान करते हुए हुए सुबह और रात में सोने से पहले पंखा से उनकी हवा करें। ऐसा करने से कालसर्प दोष का अंत होता है।

इसे भी पढ़ें : शिवलिंग पर क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

Kaal sarp dosh ke upay जटा वाला नारियल अपने ऊपर से 7 बार उतारकर बहते हुये जल में बहा दें । मन में यह भावना करें की कालसर्प दोष का प्रभाव हो रहा है ।

Kaal sarp dosh ke upay चंदन की माला से राहु के इस बीज मंत्र- 'ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः' का जप शिव मंदिर में जाकर करने से कालसर्प दोष की परेशानियों से तुरंत लाभ मिलता है ।

Kaal sarp dosh ke upay भगवान शिव का रुद्राभिषेक करने से कालसर्प दोष का प्रभाव कम होता है। इसलिए संभव हो सके तो सावन के महीने एक बार भगवान शिव का रुद्राभिषेक जरूर कराएं और अगर यह रुद्राभिषेक सावन माह की नाग पंचमी के दिन करवाएं तो इसका कई गुणा फल मिलता है और जातक को शीघ्र ही कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है ।

Kaal sarp dosh ke upay किसी भी पंचमी के दिन शिव मंदिर में जाकर, शिवलिंग पर जल चढ़ाकर लाल गुलाब अर्पित करें फिर रुद्राक्ष की माला से 108 बार ऊँ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। इससे आपको कालसर्प दोष के प्रभाव से राहत मिलेगी।

इसे भी पढ़ें : शिवलिंग पर क्या चढ़ाने से क्या फल मिलता है

Kaal sarp dosh ke upay एक नारियल का सुखा गोले में छेद करके चीनी या बूरा भर दें। अब इस गोले को किसी पीपल अथवा बड़ की जड़ में इस प्रकार से सुरक्षित दबा दें जिससे कि इसमें चीटियाँ उस गोले को खा सकें । इस उपाय से शीघ्र ही कालसर्प से मुक्ति मिलती है ।

Kaal sarp dosh ke upay इस योग में महामृत्युंजय मंत्र का जप करना अत्यंत उपयोगी सिद्ध होता है। इस मंत्र की प्रतिदिन एक माला करने से लाभ मिलता है।

Kaal sarp dosh ke upay पवित्र होकर हनुमान मंदिर में जाकर एक दीपक जलाएं और उसके बाद " ऊँ हनुमते नमः "  मंत्र का 108 बार जाप करें।

Kaal sarp dosh ke upay मंगलवार एवं शनिवार को रामचरितमानस के सुंदरकाण्ड का पाठ श्रध्दापूर्वक करें।

Kaal sarp dosh ke upay शाम के समय शिवालय में शिवजी के सामने घी का दीपक जलाएं।  

इसे भी पढ़ें : शनि की साढ़े साती के उपाय

Kaal sarp dosh ke upay सुबह और शाम को हनुमान चालीसा का पाठ करें ।

Kaal sarp dosh ke upay प्रतिदिन शिवजी का जल से अभिषेक करें और बेलपत्र चढ़ाएं ।

Kaal sarp dosh ke upay धार्मिक स्थान या जरुरतमंद को जल और अन्न का दान करें ।

Kaal sarp dosh ke upay मोर का पंख सदा अपने निवास स्थान पर रखें।

Kaal sarp dosh ke upay प्रतिदिन महा मृत्युंजय मन्त्र का जाप करें।

इसे भी पढ़ें : शनि की ढैय्या से बचने के उपाय

Kaal sarp dosh ke upay हनुमान चालीसा का प्रतिदिन 108 बार जप करें।

Kaal sarp dosh ke upay शनिवार को पीपल के वृक्ष की पूजा करें।

Kaal sarp dosh ke upay शिवलिंग पर चांदी से बना नाग-नागिन का जोड़ा चढ़ाए।

Kaal sarp dosh ke upay प्रतिदिन पक्षियों को दाना डालने से दोष का प्रभाव कम हो जाता है।

Kaal sarp dosh ke upay इस दोष को दूर करने के लिए शिवलिंग पर प्रतिदिन जल चढ़ाना चाहिए।

Kaal sarp dosh ke upay शिवजी को विजया, अर्क पुष्प, धतूर पुष्प, फल चढ़ाएं तथा दूध से रुद्राभिषेक करवाएं।

इसे भी पढ़ें : मान सम्मान प्राप्ति के सरल आसान उपाय

Kaal sarp dosh ke upay नाग-नागिन का जोड़ा चांदी का बनवाकर पूजन कर जल में बहाएं।

Kaal sarp dosh ke upay नागपंचमी को शिव मंदिर की सफाई, मरम्मत तथा पुताई करवाएं। 


Top