logo

Desi Gharelu Upay

vastu dosh nivaran ke upay

Plz Share

वास्तु दोष निवारण के उपाय

Vastu Dosh Nivaran Ke upay in Hindi

हर इंसान चाहता है कि उसका अपना सुन्दर सा घर हो जिसमे वह अपने परिवार के साथ हंसी खुशी से जीवन बिता सके, और जिसके लिए हर इंसान हर संभव प्रयत्न भी करता है लेकिन जब हम घर का निर्माण करवाते है तो आने अनजाने अज्ञानता वश हमसे कई ऐसी चूक हो जाती है जो वास्तु दोष का कारण बन जाती हैं । वास्तु शास्त्र के अनुसार, अगर घर में परेशानियां खत्म नहीं हो रही हैं या पैसा टिकता नहीं है तो ज़रूरी नहीं है आप सारा दोष अपनी किस्मत को ही दें। इन परेशानियों की वजह वास्तु दोष भी हो सकता है ।

इसे भी पढ़ें : कालसर्प दोष निवारण के अचूक उपाय

वास्तु दोष के कारणों से भी कई बार जीवन में निराशा और परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अगर आपके घर में भी वास्तु दोष है तो हम आपकों कुछ ऐसे उपाय बता रहें है जिससे आप बिना ज्यादा खर्च करते हुए वास्तु दोष का निवारण कर सकते है। वैसे तो घर बनवाने से पहले हमको वास्तु के अनुसार यह तय कर लेना चाहिए कि घर का मुख्य द्वार किस दिशा में हो, रसोईघर कहाँ पर हो, स्नानघर कहाँ पर होना चाहिए, शयन कक्ष कैसा हो, बच्चों का कमरा किस प्रकार से बनाना चाहिए, इस तरह से कई ऐसे तथ्य हैं जिन पर हमे घर या मकाम बनवाने से पहले किसी वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ से सलाह जरूर लेनी चाहिए। और अगर आपका घर पहले से ही बना हुआ है या आपने नया बना बनाया घर खरीदा है तो उसमे तोड़फोड़ करवाना संभव नहीं होता है तो ऐसे में हम आपको कुछ वास्तुदोष से छुटकारा पाने के उपाय बताएँगे जिनसे आपको वास्तु दोष से शीघ्र ही छुटकारा मिल सकता है ।

वास्तु दोष निवारण के उपाय हिंदी में

Vastu Dosh Nivaran Ke upay Hindi Me


वास्तुदोष के कारण यदि घर में किसी सदस्य को रात में नींद नहीं आती है, या सोते समय डर जाता है, या बुरे सपने आते हैं या स्वभाव में चिडचिडापन रहता हो, तो उसे दक्षिण दिशा की तरफ सिर करके सोने के लिए कहें । इससे उसके स्वभाव में बदलाव होगा और अनिद्रा की स्थिति में भी सुधार होगा। याद रखें दक्षिण की दिशा में पैर करके कभी नहीं सोना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : मांगलिक दोष के उपाय हिंदी में

वास्तुशास्त्र में द्वार वेध काफी महत्व रखता है। यह बाधा या रूकावट उत्पन्न करता है। अगर आपके घर, मकान, दुकान, भवन या ऑफिस के मुख्य द्वार के सामने अगर पेड़, खंभा, बड़ा पत्थर आदि है तो इसे द्वार वेध कहते है। इससे भी कई तरह की बाधाएं उत्पन्न होती हैं। द्वार वेध की वजह से अक्सर आपके काम काज, व्यापार, नौकरी तरक्की आदि में रुकावटें पैदा होती हैं। इससे बचने के लिए अगर संभव हो तो पेड़ या खम्बे को द्वार के सामने से हटवा दें या फिर किसी वास्तु - विशेषज्ञ से सलाह लें।

अगर आपके घर में किसी भी तरह का वास्तु दोष है तो उससे कोई न कोई समस्याएं उत्पन्न हो रही होंगी। वास्तु दोष को दूर करने हेतु आप घर में 9 दिन तक अखंड रामायण का पाठ करवाएं। इस उपाय को करने से आसानी से आपके घर का वास्तु दोष दूर हो सकता है।

अपने घर के मन्दिर में घी का एक दीपक नियमित रूप से जलाएं तथा सुबह और शाम शंख की ध्वनि करने से नकारात्मक ऊर्जा घर से बाहर निकलती है और वास्तुदोष भी दूर होता है।

इसे भी पढ़ें : शनि की ढैय्या से बचने के उपाय

घर में रसोई अगर गलत स्थान पर हो तो अग्निकोण में एक बल्ब लगा दें और सुबह-शाम अनिवार्य रूप से जलाये ।

द्धार दोष और वेध दोष दूर करने के लिए शंख, सीप, समुद्र झाग, कौड़ी लाल कपड़े में या मोली में बांधकर दरवाजे पर लटकायें।

घर में बीम के दोष को शांत करने के लिए बीम के दोनों ओर बांस की बांसुरी लगायें इससे इसका दोष काफी कम हो जाता है ।

घर के सभी प्रकार के वास्तु दोष दूर करने के लिए मुख्य द्धार पर एक ओर केले का वृक्ष दूसरी ओर तुलसी का पौधा गमले में लगायें ।

इसे भी पढ़ें : शनि की साढ़े साती के उपाय

अपने घर के ईशान कोण को साफ़ सुथरा और खुला रखें. इससे घर में शुभता बढ़ती है।

घर के उत्तर-पूर्व में कभी भी कचरा इकट्ठा न होने दें और न ही इधर कोई मशीनरी सामान रखें ।

इसे भी पढ़ें : फेंगशुई के अचूक उपाय
Top