logo

Desi Gharelu Upay

vitamins ki kami se hone wale rog in hindi

Plz Share

विटामिन की कमी से होने वाले रोग इन हिंदी

Vitamins Ki Kami Se Hone Wale Rog in Hindi

विटामिंस हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक हैं। हमारे शरीर के विभिन्न अंगों के सुचारु रुप से कार्य करने के लिए विटामिंस का होना बहुत जरूरी है। विटामिन की कमी से कई तरह के रोग होते हैं। अक्सर कई बीमारियों की वजह विटामिनों की कमी ही होती है।  डॉक्टर और हेल्थ विशेषज्ञ भी मानते हैं कि एक  स्वस्थ शरीर के लिए सभी विटामिन का नियमित तौर पर सेवन करना जरूरी है, लेकिन अज्ञानता के कारण हम डाइट में सभी विटामिन वाले फूड शमिल नहीं कर पाते हैं जिसकी वजह से शरीर में किसी न किसी विटामिन की कमी हो जाती है और हमारा शरीर उस विटामिन की कमी से  होने वाले रोग का शिकार हो जाता है इसलिए हमारे शरीर में सभी विटामिंस का होना बहुत जरुरी है।  आइये जानते हैं कि शरीर में कौन सी विटामिन की कमी से कौन सा रोग हो सकता है और इसके बचाव के लिए खान पान में क्या शामिल करना चाहिए।


किस विटामिन की कमी से कौन सा रोग या बीमारी हो सकती है ?

Kis Vitamin Ki Kami Se Kaun Sa Rog, Bimari Ho Sakti Hai

विटामिन- A (Vitamin A) : विटामिन ए दो फार्म में पाए जाते हैं, रेटिनॉल और कैरोटीन। विटामिन ए आंखों के लिए बहुत जरूरी होता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों जैसे त्वचा,बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूड़ा और हड्डी को सामान्य रूप में बनाए रखने में मदद करता है। विटामिन ए की कमी से ज्यादातर आंखों की बीमारियां होती हैं, जैसे रतौंधी, आंख के सफेद हिस्से में धब्बे। यह रक्त में कैल्शियम का स्तर बनाए रखने में भी मदद करती है और हड्डियों को मजबूत करती है। इसकी पूर्ति के लिए हमें पपीता, गाजर, पालक, ब्रोकली और शकरकंद , केला आदि खाना चाहिए ।

इसे भी पढ़ें : रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय

विटामिन बी 1 (Vitamin B1) : विटामिन बी 1 की कमी से बेरीबेरी, कब्ज व अपच रोग होने की संभावना रहती है। इस विटामिन की पूर्ति के लिए हमें दूध, दाल, मीट, ब्रेड, फूलगोभी, आलू, अलसी और अंडे आदि का सेवन करना चाहिए ।

विटामिन बी 2 (Vitamin B2) : विटामिन बी 2 की कमी से त्वचा का फटना, आंखों का लाल होने जैसी समस्याएं हो सकती है। इस विटामिन की पूर्ति के लिए हमें ड्राई फ्रूट, पत्तागोभी, टमाटर, दूध, मांस, दालें और अंडे आदि खाने चाहिए ।

विटामिन बी 3 (Vitamin B3) : विटामिन बी 3 की कमी से त्वचा पर दाद और खुजली से सम्बंधित रोग हो सकते  हैं। इस विटामिन की पूर्ति के लिए हमें पीनट यानी मूंगफली, चिकन, ब्रोकली, मशरूम और राजमा आदि का सेवन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : कौन सा ड्राई फ्रूट्स किस बीमारी में फायदा करता है

विटामिन बी 5 (Vitamin B5) : विटामिन बी 5 की कमी होने से बाल सफेद होना और मंदबुद्धि होने जैसी समस्याएं होती है। इसकी पूर्ति के लिए हमें एवोकाडो, मक्का, दही, ब्रोकली, बादाम, मशरूम, गोभी, अंडा और शकरकंद आदि खाना चाहिए ।

विटामिन बी6 (Vitamin B6) : विटामिन बी6 की कमी होने से एनिमिया यानी खून की कमी और त्वचा रोग और किडनी स्टोन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। इसकी पूर्ति के लिए हमें अंकुरित अनाज, केला, ब्राउन राइस, बीन्स, ओट्स, मछली, अखरोट, एवोकाडो, सोय मिल्क और बंदगोभी आदि का सेवन करना चाहिए।

विटामिन बी 7 (Vitamin B7) : विटामिन बी 7 की कमी होने से लकवा, शरीर में दर्द और बालों का गिरना जैसी समस्या हो सकती है। इसकी पूर्ति के लिए हमें बादाम, अखरोट, मछली, अंडा, प्याज, टमाटर, गाजर, पीनट और शकरकंद आदि खाने चाहिए।

इसे भी पढ़ें : चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने के घरेलू उपाय

विटामिन बी 9 (Vitamin 9) : विटामिन बी 9 की कमी होने से एनीमिया रोग हो सकता है। शरीर में विटामिन बी 9 की पूर्ति के लिए राजमा, चुकंदर, मसूर दाल, पपीता, फूलगोभी, ब्रोकली, पालक आदि का सेवन करना चाहिए।

विटामिन बी 12 (Vitamin 12) : विटामिन बी 12 की कमी हो जाए तो इससे परनीसियस एनिमिया, पांडुरोग एवं पेचिश जैसे रोग होने की संभावना रहती है। शरीर में इस विटामिन की पूर्ति के लिए हमें पनीर, अंडा, दूध, सोय प्रोडेक्ट, सीरियल, मछली और केकड़ा इत्यादि का सेवन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : आंखो की रोशनी बढ़ाने के घरेलू उपाय

विटामिन सी (Vitamin C) :  विटामिन सी की कमी से स्कर्वी नामक रोग हो सकता है, जिसमें शरीर में थकान, मासंपेशियों की कमजोरी, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द, मसूढ़ों से खून आना और टांगों में चकत्ते पड़ने जैसी दिक्कतें हो जाती हैं।  विटामिन सी की कमी को पूरा करने के लिए खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, बेर, कटहल, पुदीना, अंगूर, टमाटर, अमरूद, सेब, दूध, चुकंदर, चौलाई और पालक आदि का सेवन करें। इसके अलावा दालों में भी विटामिन सी पाया जाता है।

विटामिन डी Vitamin D) : विटामिन डी कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, हाथ और पैर की हड्डियां टेढ़ी भी हो जाती हैं। वैसे तो उगते हुए सूर्य की मीठी धुप  विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है। इसके अलावा शरीर में विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए हमें दूध, अंडे, चिकन, सोयाबीन और मछलियों आदि का सेवन कर सकते हैं ।

इसे भी पढ़ें : मुंह की बदबू को दूर करने के घरेलु उपाय

विटामिन E Vitamin E) : विटामिन ई शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनाए रखने, शरीर को एलर्जी से बचाए रखने की, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में प्रमुख भूमिका निभाता है। विटामिन ई एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में भी कार्य करता है। इसकी कमी से जनन शक्ति में कमी आ जाती है। विटामिन ई की कमी को पूरा करने के लिए अंडे, सूखे, मेवे, बादाम और अखरोट, सूरजमुखी के बीज, हरी पत्तेदार सब्जियां, शकरकंद, सरसों आदि का सेवन करना चाहिए इसके अलावा विटामिन ई वनस्पति तेल, गेंहू, हरे साग, चना, जौ, खजूर में भी पाया जाता है।

विटामिन के Vitamin K) : विटामिन के, की कमी होने से रक्त का थक्का न जमने की समस्या होती है। विटामिन 'के' ब्लड क्लॉटिंग (Blood Clotting) में मदद करता है. अगर विटामिन के की शरीर में ज्यादा कमी हो जाए, तो कई बार आपके शरीर के अंगों में अंदरूनी ब्लीडिंग हो सकती है, जो बहुत खतरनाक है।  इसकी पूर्ति के लिए हरी और पत्तेदार सब्जियों और फलों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। 

कोरोना वायरस से बचने के उपाय >>

Top